Friday, April 16, 2010



रजकण को बिना चूमे कंचन कहा मिला है किसको,
काँटों पे बिना चले, मधुबन मिला है किसको,
तू देख के कुछ मुश्किलें क्यों हार गया प्यारे,
देहरी को बिना लांघे, आँगन मिला है किसको।

Obstacles are those frightful things you see when you take ur eyes off the goal.
कहने का मतलब यह हुआ दोस्तों की बाधाएं या परेशानिया इन्सान को उस समय नज़र आती है, जब आपकी निगाह आपके लक्ष्य से भटक गयी हो। हरेक व्यक्ति आत्म विश्वास जानने के बावजूद उसपर अमल नहीं कर पता है। ये कुछ समय के लिए जागते है, फिर गहरी नींद में सो जाते है। सफलता का मूल मंत्र है - 'खुद पर विश्वास और सकारात्मक सोच। जिस प्रकार पानी में डूबता हुए व्यक्ति को हवा की ज़रूरत होती है। ठीक वही छटपटाहट या ज़रूरत जो इन्सान अपने अन्दर महसूस कर लेगा, उसे कोई भी सफल होने से नहीं रोक सकता, क्योकि

God help those, who help themselves.
अब हवाए करेगी रौशनी का फैसला,
जिस दीये में जा होगी, बस वही रह जायेगा।
जिस दिन आप रुक गए समझ आपके भीतर का तेल ख़त्म, सफलता पाने के लिए भूख ख़त्म गयी समझो।
टूटी टहनी एक दिन पतवार बनती है,
चिंगारी भड़क कर ही अंगार बनती है,
जो रोंदी गयी बेबस समझ कर,
वही मिटटी एक दिन मीनार बनती है।

what lies behind us and what lies before us are tiny matters compared to what lies within us.
हमेशा इस बात पर विश्वास कीजिये की आपके अंदर क्या है और आपकी क़ाबलियत क्या है, बजाये इसके की क्या हमारे पीछे था और क्या हमारे आगे है।

Destiny is virtue of those who belives in themselves.
भाग्य भी उन्ही का साथ देता है, जो खुद पर विश्वाश करते है।

Weak will power has caused more failure rather than intelligence or ability.
किसी भी कार्य की असफलता के लिए उस इन्सान की बुद्धिमता या कार्य दक्षता से ज्यादा जिम्मेवार उसकी कमज़ोर इच्छा शक्ति होती है।

Only those who dare to fail greatly can ever acheive greatly.
महान सफलता उसी व्यक्ति को प्राप्त हो सकती है। जो बड़ी से बड़ी असफलता बर्दास्त करने की क्षमता रखता हो।

The biggest risk of life is not to take a risk.
इन्सान के जीवन का सबसे बड़ा खतरा किसी खतरे का न उठाया जाना है।

If you have failed that doesn't mean you are failure. It only means you have not succeed yet.
अगर आपको नाकामयाबी मिलती है, तो इसका मतलब यह नहीं है की आप नाकामयाब है। इसका सिर्फ यह मतलब है की आप अभी कामयाब नहीं हैं।
''जिन खोजा तिन पाइयां, गहरे पानी पैठ,
मैं बबुरा डूबन डरा, रहा किनारे बैठ''
कबीर जी ने कहा है की जब भी मैं आगे बढ़ने या कुछ करने की सोचता हूँ, तो चारो तरफ पानी रुपी परेशानियां नज़र आने लगती हैं और इसी वजह से मैं एक बेवकूफ की तरह मंजिल की ओर जाने की बजाय बैठे - बैठे ही जिन्दगी गुजार बैठा हूँ। आपको आस - पास ऐसे कई दर्जनों लोग मिल जायेंगे जो नया कम करने के बजाय परेशानियों को ज्यादा बताएँगे

A smooth see never made a good sailor.
एक चीज़ हमेशा याद रखियेगा दोस्तों, जिस प्रकार समुद्र की तूफानी लहरे ही एक नाविक को दक्ष बनती है। उसी प्रकार जीवन में कठिनाइयाँ ही इन्सान को आंतरिक रूप से मजबूती प्रदान करती हैं।

Sucide is a permanent solution to all temporary problems.
अगर आप साडी समस्याओ से छुटकारा पाना चाहते हैं तो साडी अस्थायी समस्याओ की आत्महत्या ही स्थायी समाधान है, और फैसला आपके हाथ है।

Success is not measured by our position in life, but by the obstacles we overcome to get there.
अर्थात कोई इन्सान सफल है, ये केवल इस बात पर निर्भर नहीं करता है की उसकी पोजीशन (Status) क्या है? बल्कि ये इस बात पर निर्भर करता है, की उसने इसे पाने के लिए कितनी परेशानियों का सामना किया है? अगर एक करोडपति सेठ का बेटा पिता के मृत्योपरांत उसकी जगह ले लेता है, तो उसे सफल नहीं कहेंगे, क्योंकि उसने बिना मेहनत किये इसे पाया है। सफल वह व्यक्ति कहलायेगा, जिसने अपनी क्षमताओं की तुलना में ज्यादा कर दिखाया है। एक विजेता अपने ही द्वारा बनाये गए रिकॉर्ड को बार- बार तोड़ता रहता है।

If you think you can or if you think you cant you are right।
''अब काहिलों को छोड़ दे, आ चल हमसे नाता जोड़ के,
गर साथ दिया, तो ले आयेंगे आसमान से तारे तोड़ के।''
दोस्तों, हमारे पास तीन दिन होते है। एक बीता हुआ कल, आज और आने वाला कल! बीते हुए कल और आने वाले कल के बीच हमारे हाथ में सिर्फ आज है। इस आज को जैसा चाहे बना सकते है। बीते हुए कल से सीख ले कर और आने वाले कल की संभावनाओं का ख्याल रख कर!

There is never wrong time to do right things.
"Think like a Genious but speak like a common man."

Winner V/s Failure

Winner
विजेता समाधान है, हर समस्या का
विजेता हमेशा नये - नये प्रोग्राम बनता है
विजेता टीम का हिस्सा होता है
विजेता आने वाले कल को देखता है
विजेता tharmostate होता है।

Failure
पराजित खुद समस्या है, हर समाधान का,
पराजित के पास नये-नये बहाने होते है,
पराजित टीम के हिस्से करता है,
पराजित बीते हुए कल पर रोता रहता है,
पराजित Tharmameter होता है।
''मुर्ख को समझावते, ज्ञान गांठ को जाय।
कोयला होए न उजला, सौ मन साबुन खाय॥''
"लोग कहते हैं की बदलता है जमाना,
मर्द तो वो है, जो ज़माने को बदल दे।"
कागज की कश्ती लहरों से paar नहीं होती,
हारने वालों की कभी जय-जयकार नहीं होती,
हरता है वही जिनके अन्दर जीत की ललकार नहीं होती,
सच तो यह है की जीतने वालों की कभी हार नहीं होती।
"एक पत्थर की भी तकदीर संवर सकती है,
शर्त है की ज़रा उसे शालिके से तराशा जाये।

7 comments:

  1. excellent inspirational thoughts.welcome to blog jagat.
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बेहद जोश भरी बातें हैं आपकी, पढ़ कर बहुत ही अच्छा लगा.

    हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  3. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  4. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  5. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete